भारत-चीन तनाव: मुखपरी में 200 मीटर से भी कम है दोनों देशों के सैनिकों का फासला

नई दिल्ली। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास भारत और चीन की सेना के बीच बढ़ती हलचल को लेकर इंडिया टीवी लगातार अपनी नजर बनाए हुए है। LAC  पर फॉरवर्ड बेस से इंडिया टीवी के संवाददाता अमित पालित की Super Exclusive रिपोर्ट के मुताबिक, मुखपरी में भारत और चीन की सेना बिल्कुल आमने-सामने सिर्फ 170-200 मीटर की दूरी पर हैं। यदि हालात बिगड़ते हैं तो झड़प हो सकती है। भारी संख्या में दोनों तरफ सैनिकों की तैनाती देखने को मिल रही है। चीन चाहता है कि भारत सेना हटाए जबकि भारत चाहता है कि चीन अपने वादे को पूरा करे।

चुशुल में एक तरफ भारत का बेस है और दूसरी तरफ चीन का मॉल्डो बेस है। चीन ने अपनी टैंक रेजिमेंट को तैनात किया है। भारत ने चुशूल के आसपास की पहाड़ियों पर अपने सैनिकों को एंटी टैंक मिसाइलों के साथ तैनात किया है। भारत ने अपने मेन बैटल टैंक को भी चुशुल में तैनात किया है ताकि चीन कोई हिमाकत करे तो उसके टैंक को तबाह किया जा सके। जहां एक तरफ चीन एक तरफ बातचीत का पैंतरा चल रहा है, वहीं दूसरी ओर सैनिकों का जमावड़ा भी बढ़ा रहा है। चीन युद्ध जैसे हालात बना रहा है, लेकिन शायद चीन ये नहीं जानता आज का भारत ना केवल अपनी सरहद की सुरक्षा करना अच्छी तरह जानता है बल्कि दुश्मन के घर में घुसकर मारना भी जानता है।

भारत-चीन के बीच कमांडर स्तर की बैठक फिर बेनतीजा रही

लद्दाख के आसमान में फारवर्ड एयरबेस पर मिराज, सुखोई, MIG विमान हुंकार भरते दिखाई दे रहे हैं। भारत-चीन के बीच बढ़ते तनाव के चलते भारतीय वायुसेना पूरी तरह चौकन्नी और सतर्क है। दुश्मन का सामने करने के लिए एयरफोर्स पूरी तरह से तैयार है। लगातार MIRAGE 2000, SU 30 MKI, MIG 29 से उड़ानें की जा रही हैं। गौरतलब है कि भारत-चीन के बीच शनिवार (12 सितंबर) को करीब 4 घंटे कमांडर स्तर चली बैठक बेनतीजा रही। भारत-चीन के बीच ब्रिगेड कामंडर लेवल की बैठक शनिवार (12 सितंबर) सुबह 11 बजे से 2 बजे तक चली। करीब 4 घंटे चली बैठक बेनतीजा रही। अगले हफ्ते फिर कोर कामंडर लेवल की मीटिंग होगी, ये कोर कामंडर लेवल की छठी बैठक होगी।

रक्षा मंत्री, CDS और NSA ने की बैठक  

LAC पर हालात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ एनएसए अजित डोभार, सीडीएस सीडीएस जनरल बिपिन रावत की बैठक रविवार (13 सितंबर) को भी होगी। बैठक में एलएसी पर बने हालातों को लेकर चर्चा होगी। शनिवार (12 सिंतबर) को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ हाईलेवल मीटिंग की। मीटिंग में CDS बिपिन रावत के अलावा NSA अजित डोवल भी मौजूद रहे। चीन के खिलाफ अटैंकिंग मोड का आदेश पहले ही मोदी सरकार ने रखा है। बता दें कि, बीते 19 हफ्तों से भारत-चीन सीमा पर तनाव है। मोदी सरकार आने का बाद लद्दाख में सड़कों को डेवलप किया जा रहा है ताकि जरूरत के समय इन्ही सड़कों के जरिए सैनिकों, टैंक, गन को LAC तक पहुंचाया जा सके।

Check Also

छेड़छाड़ करने वाले की जमानत निरस्त कर भेजा जेल बाईक चोरी के आरोपी की जमानत निरस्त कर भेजा जेल

बड़वानी – न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी विशाल खाड़े खेतिया ने पारित अपने आदेश में आरोपी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *